झारखंड

रेमडेसिविर इंजेक्शन कालाबाजारी मामले में HC में हुई सुनवाई, वीसी के जरिए पेश हुए सीआईडी के एडीजी अनिल पालटा

रांची: झारखंड हाईकोर्ट में रेमडेसिविर कालाबाज़ारी के मामले में गुरुवार को सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान सीआईडी के एडीजी अनिल पालटा अदालत के समक्ष वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से उपस्थित हुए।

अदालत ने उनसे कई बिन्दुओं पर सवाल किये। जिनका जवाब सीआईडी के एडीजी ने अदालत को दिया और अदालत को आश्वस्त किया कि इस मामले की जांच सही दिशा में हो रही है।

हाईकोर्ट ने पूछा कि एक अधिकारी ने अपने बॉडीगार्ड के माध्यम से रेमडेसिविर जुगाड़ करवाया इस बिंदु पर जांच हो रही है।

इस पर एडीजी ने कहा कि हम सभी पहलुओं को देख रहे हैं, किसी को नहीं छोड़ा जायेगा।

जितने भी लिंक हैं सबकी जांच की जा रही है।जांच के दायरे में जो भी आएगा उसे खिलाफ निष्पक्ष जांच होगी। अदालत में एडीजी से पूछा कि आपको डर लग रहा है।

जांच के दौरान किसी से प्रभावित हैं या जांच को कोई प्रभावित करने की कोशिश कर रहा है।

इस पर एडीसी ने कहा कि बिल्कुल नहीं हम प्रोफेशनल तरीके से जांच कर रहे हैं। हम सभी बिन्दुओं को अदालत के समक्ष ले आएंगे।

अदालत ने एडीजी के जवाब पर संतुष्टि जताते हुए कहा कि हमें आपकी जांच पर भरोसा है। हम आश्वस्त हैं कि आप बेहतर ढंग से इस मामले की जांच करेंगे।

अब इस मामले की अगली सुनवाई 17 जून को होगी। झारखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डा रविरंजन और जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद की अदालत में सुनवाई के दौरान महाधिवक्ता राजीव रंजन ने सरकार का पक्ष रखा।

उल्लेखनीय है कि पिछली सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने सीआईडी के एडीजी को अदालत के समक्ष उपस्थित होने का निर्देश दिया था।

अदालत ने कड़ी टिप्पणी करते हुए कहा था कि अब तक की जांच देखकर ऐसा लग रहा है कि बड़ी मछलियों पर केंद्रित न होकर यह जांच सिर्फ छोटी मछलियों पर की जा रही है।

Back to top button