वीडियो लिंक के जरिए अदालत में पेश हुईं सू ची

ने पी तॉ : म्यांमार की अपदस्थ नेता आंग सान सू ची सोमवार को यहां वीडियो लिंक के माध्यम से अदालत में पेश हुईं।

सू की को हिरासत में लिए जाने के बाद यह उनकी पहली सार्वजनिक उपस्थिति रही। एक फरवरी को सेना के तख्तापलट के बाद उन्हें हिरासत में ले लिया गया था।

बीबीसी की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि हिरासत में लिए जाने के बाद से, पूर्व स्टेट काउंसलर एक अज्ञात स्थान पर नजरबंद हैं।

रिपोर्ट में सू ची के वकीलों के हवाले से कहा गया है कि वह वीडियो लिंक के माध्यम से सुनवाई के दौरान अच्छी सेहत में दिखाई दीं और उन्होंने अपनी कानूनी टीम को देखने का अनुरोध किया।

रिपोर्ट के अनुसार, सू ची पर अवैध रूप से वॉकी-टॉकी आयात करने का आरोप लगाया गया है। इसके अलावा उन पर एक प्राकृतिक आपदा कानून का उल्लंघन करने का आरोप भी है।

उन पर सोमवार को अतिरिक्त आरोप भी जोड़ा गया, जिसमें पिछले साल के चुनावी अभियान के दौरान कोविड-19 प्रतिबंधों को तोड़ना और भय एवं अलार्म पैदा करना शामिल है।

मामले को 15 मार्च तक के लिए स्थगित कर दिया गया है और नए आरोपों को लेकर सजा के बारे में अभी कुछ पता नहीं चला है।

म्यांमार नाउ न्यूज एजेंसी का हवाला देते हुए, बीबीसी की रिपोर्ट में कहा गया है कि एक फरवरी को सू की के साथ हिरासत में लिए गए पूर्व राष्ट्रपति यू विन मिंट पर उकसाने का आरोप लगाया गया है।

तख्तापलट के बाद म्यांमार में नागरिकों का प्रदर्शन जारी है।

लोग सू की और उनकी नेशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी (एनएलडी) पार्टी के अन्य वरिष्ठ पदाधिकारियों की रिहाई करने की मांग करने के साथ ही लोकतांत्रिक रूप से निर्वाचित सरकार की बहाली की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

रविवार को देश में 18 प्रदर्शनकारियों ने अपनी जान गंवाई।

बीबीसी की रिपोर्ट में बताया गया है कि सेना और पुलिस द्वारा उग्र भीड़ के खिलाफ कड़ी प्रतिक्रिया जताए जाने के बावजूद सोमवार को भी विरोध प्रदर्शन किया गया।

सेना ने देश में एक फरवरी को तख्तापलट किया था और एक साल के लिए आपातकाल की घोषणा की थी।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button