भारत

अग्निपथ योजना की वापसी की मांग के साथ दिल्ली में सड़कों पर उतरा छात्रों का हुजूम

इस चयन प्रक्रिया तहत नियुक्त किए जाने वाले जवानों को अग्निवीर के नाम से जाना जाएगा, इस साल करीब 46,000 अग्निवीर की भर्ती होगी

नयी दिल्ली: केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी अग्निपथ योजना (Agneepath Scheme) की वापसी की मांग को लेकर शुक्रवार को राष्ट्रीय राजधानी में ITO पर वाम समर्थित ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (AISA) के सदस्यों के साथ कई छात्रों ने विरोध प्रदर्शन किया।

सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते ये छात्र आईटीओ दिल्ली मेट्रो स्टेशन (ITO Delhi Metro Station) के गेट नंबर 5 से पुरानी दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बीच सड़क पर धरने पर बैठ गये। मेट्रो स्टेशन के गेट नंबर 5 को प्रदर्शन के कारण बंद कर दिया गया।

छात्रों की बढ़ती संख्या को देखते हुए केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल सहित सुरक्षाबल के जवानों ने उन्हें धरने से उठाया। कई प्रदर्शकारियों को दिल्ली पुलिस ने हिरासत में ले लिया।

एक प्रदर्शनकारी ने कहा कि उन्हें अनुबंध (Contract) की नौकरी नहीं चाहिए। उसने कहा,हम उसके बाद क्या करेंगे। हमारा जीवन और करियर दोनों दांव पर लगा है। सरकार को इसे वापस लेना चाहिए।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा…

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने मंगलवार को तीनों सेनाओं में भर्ती के लिए अग्निपथ भर्ती योजना को मंजूरी दी थी।

इस चयन प्रक्रिया तहत नियुक्त किए जाने वाले जवानों को अग्निवीर के नाम से जाना जाएगा। इस साल करीब 46,000 अग्निवीर की भर्ती होगी।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का कहना है कि यह योजना एक परिवर्तनकारी पहल है और इसके तहत युवाओं को सेना में जाने का मौका मिलेगा। इससे रोजगार (Employment) के अवसर बढ़ेंगे और सशस्त्र सेना में युवाओं की संख्या बढ़ेगी।

सरकार (government) द्वारा परिवर्तनकारी और ऐतिहासिक कदम कही जा रही इस अग्निपथ योजना का लेकिन देश के कई राज्यों में व्यापक स्तर पर विरोध हो रहा है।