झारखंड के कॉलेजों में टीचर्स व स्टाफ्स की होने वाली है नियुक्ति, सभी विश्वविद्यालयों के वीसी से 15 दिनों में मांगा रोस्टर

रांची: अगर आप भी कॉलेज में टीचर के पद पर बहाल होने की योग्यता रखते हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है। जी हां, झारखंड के कॉलेजों में टीचर्स के खाली पदों पर बहाली होने वाली है।

इस संबंध में उच्च शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके खंडेलवाल ने राज्य के सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों को निर्देश दिया है कि वे कॉलेज शिक्षकों की नियुक्ति के लिए 15 दिनों के अंदर रोस्टर क्लियर करके विभाग को रिपोर्ट भेजें।

साथ ही इसमें यूजीसी की गाइडलाइन का भी ख्याल रखें।

वर्ग तीन व चार के पदों पर भी होगी नियुक्ति

इतना ही नहीं, विश्वविद्यालयों और अंगीभूत कॉलेजों के वर्ग तीन और वर्ग चार के पदों पर नियुक्ति के लिए भी सभी कुलपतियों को रोस्टर क्लियर कर विभाग को रिपोर्ट भेजने को कहा गया है।

 मंगलवार को विश्वविद्यालयों के कुलपतियों के साथ हुई ऑनलाइन बैठक में यह निर्देश दिया गया।

बैठक में उच्च शिक्षा निदेशक ए. मुत्थुकुमार ने भी भाग लिया।

झारखंड के कॉलेजों में टीचर्स व स्टाफ्स की होने वाली है नियुक्ति, सभी विश्वविद्यालयों के वीसी से 15 दिनों में मांगा रोस्टर

विभिन्न योजनाओं में भेजी गई राशि के उपयोग प्रमाण पत्र नहीं मिलने पर चिंता जताते हुए अपर मुख्य सचिव ने कहा कि सारे पेंडिंग उपयोगिता पत्रों को शीघ्र भेजें।

शिक्षा की गुणवत्ता को लेकर नेक्स्ट वीक वीसी

शिक्षा की गुणवत्ता को कैसे ठीक किया जाए, इस पर अगले सप्ताह में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग होगी।

परीक्षा और पढ़ाई पर चर्चा करते हुए तय हुआ कि यूजीसी गाइडलाइन को फॉलो करते हुए ऑनलाइन पढ़ाई को जारी रखा जाए।

कोविड की स्थितियों में सुधार के बाद परीक्षा पर निर्णय लिया जाएगा। विभिन्न कॉलेजों में बीएड की खाली पड़ी सीटों के भरने पर भी चर्चा हुई।

पासआउट छात्रों के रोजगार पर अगले माह बैठक

कॉलेज से पासआउट छात्रों को कैसे रोजगार मिले, इस पर चर्चा हुई। बोर्ड ऑफ प्रैक्टिकल ट्रेनिंग (बीओपीटी) इस्टर्न रीजन कोलकाता के डायरेक्टर भी इस बैठक से जुड़े थे।

उनसे भी इस बात पर चर्चा हुई कि कैसे कॉलेज में ही बच्चों को ट्रेनिंग दें, उनके पाठ्यक्रम को इंप्रूव करें, ताकि उनके रोजगार की बाधा दूर हो सके।

इस विषय पर जून में बैठक होना सुनिश्चित हुआ, जिसमें बीओपीटी के अधिकारियों के अलावा उद्योग जगत के लोग भी रहेंगे।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button