19 रुपये वाला share पहुंचा 600 रुपये के पार, Investors को 32 लाख रुपये का सीधा फायदा

2 साल में ही Investors को कर दिया मालामाल

नई दिल्ली: Penny stock जोखिम भरा तो जरूर होत है, लेकिन इसका Return भी तगड़ा ही होता है।
रिटर्न देने के मामले में इनका कोई तोड़ नहीं है। हालांकि, मजबूत Fundamentals वाली छोटी कंपनी भी पैसा लगाने के लिए अच्छा दांव हो सकती हैं।

The share of Rs 19 has crossed Rs 600, direct benefit of Rs 32 lakh to the investors

रिटर्न देने के मामले में Aditya Vision ऐसी ही कंपनी है। Aditya Vision ने 2 साल में ही निवेशकों को मालामाल कर दिया है। Aditya Vision के शेयरों ने 2 साल में Investors को करीब 3200 फीसदी का रिटर्न दिया है। तो आइए जानते हैं कि जिन निवेशकों ने 2 साल पहले कंपनी के शेयरों में पैसा लगाया था, उसकी वैल्यू मौजूदा समय में क्या है।

The share of Rs 19 has crossed Rs 600, direct benefit of Rs 32 lakh to the investors

1 लाख की वैल्यू

The share of Rs 19 has crossed Rs 600, direct benefit of Rs 32 lakh to the investors

Aditya Vision के शेयर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (Bombay Stock Exchange) में 26 दिसंबर 2019 को 19.20 रुपये के स्तर पर थे। कंपनी के शेयर 4 जनवरी 2022 को 635.80 रुपये के स्तर पर बंद हुए हैं। कंपनी ने शेयरों ने 2 साल में करीब 3200 फीसदी का रिटर्न Investors को दिया है। अगर किसी व्यक्ति ने 2 साल पहले कंपनी के शेयरों में 1 लाख रुपये का निवेश किया होता तो मौजूदा समय में उसकी वैल्यू 33 लाख रुपये से ज्यादा होती। यानी, Investors को सीधे-सीधे 32 लाख रुपये का फायदा होता।

1 लाख के बने 16 लाख

The share of Rs 19 has crossed Rs 600, direct benefit of Rs 32 lakh to the investors

अगर किसी Investor ने कंपनी के शेयरों में एक साल पहले 1 लाख रुपये का निवेश किया होता तो आज की तारीख में वह रकम 16.60 लाख रुपये होती। Aditya Vision के शेयर साल 2021 के Multibagger stock में से एक हैं। हालांकि, पिछले कुछ महीने में आदित्य विजन के शेयरों में बिकवाली देखने को मिली है। जुलाई 2021 में कंपनी के शेयर 1,564.10 रुपये के स्तर पर पहुंच गए थे। पिछले एक महीने में कंपनी के शेयरों में करीब 18 फीसदी की गिरावट आई है।

इन्हें भी पढ़ें : आखिर Bathroom में ही क्यों होते हैं सबसे ज्यादा Heart Attack, जानें वजह 

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button