उपराष्ट्रपति ने कहा- दुनिया के लिए आतंक समर्थक देशों को अलग करने का समय

नई दिल्ली: उपराष्ट्रपति एम.वेंकैया नायडू ने गुरुवार को 26/11 मुंबई आतंकवादी हमले के शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि आतंकवाद का समर्थन और प्रायोजन करने वाले देशों को अलग-थलग करने के लिए दुनिया के साथ आने का समय आ गया है।

कई ट्वीट में नायडू ने कहा, मैं 26/11 मुंबई आतंकवादी हमले के शहीदों को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।

राष्ट्र उनकी वीरता और बलिदान को हमेशा याद रखेगा। इस नृशंस हमले के शिकार हुए परिवारों के साथ मेरी संवेदना।

उन्होंने आगे लिखा, यह समय दुनिया के लिए आतंकवाद को समर्थन और प्रायोजित करने वाले देशों को अलग-थलग करने के लिए एक साथ आने का है।

आज से 12 साल पहले 26 नवंबर, 2008 को पाकिस्तान के लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकवादियों ने समुद्री मार्ग से मुंबई में घुसकर शहर के विभिन्न हिस्सों में 160 से अधिक लोगों की हत्या कर दी थी।

उनके हमले के दौरान, नौ आतंकवादी मारे गए, जबकि एक, मोहम्मद अजमल कसाब को गिरफ्तार किया गया और आखिरकार नवंबर 2012 में उसे फांसी दे दी गई।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button