बिहार में टीकों को लेकर भाजपा, राजद के बीच जुबानी जंग हुई तेज

पटना: जहां कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने पूरे देश में जनजीवन को तबाह कर दिया है, वहीं बिहार में भाजपा और राजद के बीच टीकों को लेकर जुबानी जंग भी तेज होती जा रही है।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राज्यसभा सांसद सुशील मोदी ने आरोप लगाया कि राष्ट्रीय जनता दल (राजद) और कांग्रेस पार्टी के कारण ग्रामीण क्षेत्रों में टीकाकरण कार्यक्रम धीरे-धीरे आगे बढ़ रहा है।

मोदी ने कहा, राजद और कांग्रेस पार्टी बिहार में ग्रामीण क्षेत्रों में धीमी गति से टीकाकरण के लिए जिम्मेदार हैं।

राजद नेता तेजस्वी यादव जो सरकार पर सवाल उठा रहे हैं, उन्हें स्पष्ट करना चाहिए कि राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव और पूर्व सीएम राबड़ी देवी ने अब तक टीका क्यों नहीं लगवाया है? कितने राजद नेताओं ने बिहार में टीके ले लिए हैं?

मोदी ने कहा, राजद ग्रामीण इलाकों में गरीब लोगों को टीके से बचने के लिए भी मजबूर कर रहा है। राजद का यह कृत्य उनकी जान को खतरे में डाल रहा है।

उन्होंने कहा, लोगों का एक वर्ग कह रहा है कि यह भाजपा की वैक्सीन है, जबकि कुछ लोग कह रहे हैं कि पीएम नरेंद्र मोदी को पहले वैक्सीन लेनी चाहिए।

मैं कहना चाहता हूं कि देश के आम लोगों के बीच विश्वास विकसित करने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी और देश की कई अन्य शीर्ष हस्तियों ने वैक्सीन ले ली है।

सुशील मोदी की बात का जवाब देते हुए, राजद के एक वरिष्ठ नेता श्याम रजक ने कहा, देश में हर किसी को टीका लगाने के लिए

न तो केंद्र और न ही बिहार सरकार के पास पर्याप्त टीके हैं। इसलिए, इन दोनों वरिष्ठ नेताओं (लालू और राबड़ी) ने टीका नहीं लिया है।

इसके अलावा, एनडीए सरकार ने जो जांच की सुविधा मुहैया कराई है, वह अनुचित तरीके से चल रही है।

उन्होंने कहा, मैं सुशील मोदी से एक सवाल पूछना चाहता हूं कि उन्होंने टीका कहां से लिया है और यह भी स्पष्ट करना चाहता हूं कि उनके भाई ने टीका लिया था या नहीं।

सुशील मोदी के भाई अशोक मोदी की एक पखवाड़े पहले पटना में कोरोना संक्रमण के कारण मृत्यु हो गई और वह उनकी जान बचाने में असमर्थ रहे।

रजक ने कहा, लालू जी एम्स दिल्ली में भर्ती थे, सुशील मोदी एम्स के डॉक्टरों से क्यों नहीं पूछ रहे हैं कि उन्हें कोरोना की वैक्सीन लगाई गई थी या नहीं।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button