India Railway : ट्रेन में लोअर बर्थ बुक करना है, तो जान लीजिये IRCTC के ये नियम

IRCTC ने जानकारी दी कि कैसे आप लोअर बर्थ वरिष्ठ नागरिकों के लिए बुक करा सकते हैं

नयी दिल्ली : रेलवे से हर दिन भारी संख्याय में लोग सफर करते हैं, जिसके कारण टिकट बुकिंग को लेकर समस्याल रहती है। कई लोगों को अपनी मंनपसंद सीट नहीं मिल पाती।

खासकर वरिष्ठर नागरिकों को, जिन्हें  लोअर बर्थ की ज्यादा जरूरत होती है। इन्हीं बातों को लेकर IRCTC ने जानकारी दी कि कैसे आप लोअर बर्थ वरिष्ठ नागरिकों के लिए बुक करा सकते हैं और इसके लिए नियम क्या कहता है।

India Railway : ट्रेन में लोअर बर्थ बुक करना है, तो जान लीजिये IRCTC के ये नियम

कुछ दिनों पहले ही एक ट्विटर यूजर ने भारतीय रेलवे को ट्वीट करते हुए कहा था कि IRCTC को अपनी प्रक्रिया में सुधार करना चाहिए।

रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव को टैग करते हुए यात्री ने लिखा, “सीट आवंटन के लिए आप क्या तर्क चलाते हैं, मैंने निचली बर्थ की वरीयता के साथ तीन वरिष्ठ नागरिकों के लिए टिकट बुक किया था, 102 बर्थ उपलब्ध हैं, फिर भी आवंटित बर्थ मिडिल, अपर और साइड हैं। ऐसा क्योंं है? इसे सही करने की आवश्यकता है।”

India Railway : ट्रेन में लोअर बर्थ बुक करना है, तो जान लीजिये IRCTC के ये नियम

जितेंद्र एस नाम के यूजर के इस ट्वीट के बाद जवाब देते हुए IRCTC ने ट्वीट किया, ” लोअर बर्थ / सीनियर सिटीजन कोटा बर्थ केवल 60 वर्ष और उससे अधिक के लिए है।

लोअर बर्थ 45 वर्ष और उससे अधिक उम्र की महिलाओं के लिए निर्धारित की गयी है, जब वह अकेली या दो यात्री हैं।” IRCTC ने आगे कहा कि यदि दो से अधिक वरिष्ठ नागरिक हैं या एक वरिष्ठ नागरिक है और दूसरा वरिष्ठ नागरिक नहीं है, तो सिस्टम इस पर विचार नहीं करेगा और फिर उसी आधार पर टिकट आवंटन किया जायेगा।”

India Railway : ट्रेन में लोअर बर्थ बुक करना है, तो जान लीजिये IRCTC के ये नियम

बता दें कि पिछले साल, रेलवे ने कोरोनो वायरस महामारी के मद्देनजर गैरजरूरी यात्राओं जैसे वरिष्ठ नागरिकों सहित कई श्रेणियों के लोगों के लिए रियायती टिकटों को निलंबित कर दिया था, ताकि महामारी के खतरे से जान का जोखिम न हो।

रेलवे ने वरिष्ठ नागरिकों के लिए रियायतें वापस ले ली हैं, क्योंकि उस श्रेणी में COVID-19 के कारण वायरस और मृत्यु दर फैलने का जोखिम सबसे अधिक है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button