हैवानियत की सारी हदें पार कर जन्म देने वाली मां के 1000 से ज्यादा टुकड़े कर खा गया बेटा, 15 साल की हुई सजा

मेड्रिड: जन्म देने वाली मां के साथ एक युवक ने हैवानियत की सारी हदें पार कर दीं। मां की हत्या करने के बाद लाश के एक हजार से ज्यादा टुकड़ किक केए।

इन टुकड़ों को​ उसने प्लास्टि जार में बंद कर फ्रिज में रख दिया। आदमखोर बेटे ने मां की लाश के टुकड़ों को एक सप्ताह तक खाया।

पुलिस द्वारा आरोपी को गिरफ्तार किए जाने के बाद पागल होने का नाटक शुरू कर दिया, लेकिन कोर्ट में उसका राज खुल गया।

दिल दहला देने वाली इस वारदात के सामने आने के बाद स्पेन के वेन्टस में रहने वाले 28 साल के बेटे अल्बर्टो सांचेज गोमेज को लोगों द्वारा आदमखोर बुलाया जाने लगा है।

बताया गया है कि अल्बर्टो अपनी मां के साथ वेन्टस के मेड्रिड में रहता था। ये मामला वर्ष 2019 का है जब एक रात 68 वर्षीय मां से उसका झगड़ा हो गया।

पुलिस के अनुसार गुस्से में आकर उसने अपनी मां की गला दबाकर हत्या कर दी। अल्बर्टो ने मां की लाश के एक हजार से ज्यादा टुकड़े किए।

लाश को काटने के लिए उसने कारपेंटर द्वारा लकड़ी को काटे जाने के लिए प्रयोग की जाने वाली आरी का इस्तेमाल किया। इसके बाद लाश के टुकड़ों को उसने प्लास्टिक के जार में बंद कर फ्रिज में रख दिया।

आरोपी ने एक सप्ताह तक इन टुकड़ों को पका कर और कई बार कच्चा भी खाया।

कुछ टुकड़े उसने अपने कुत्ते को भी खाने के लिए दिए।

एक रिपोर्ट के मुताबिक अल्बर्टो की मां के एक दोस्त ने उसके गायब होने की शिकायत की, तो पुलिस महिला की तलाश में जुट गई. पुलिस उसके घर पहुंची, तो वहां का दृश्य देख हैरान रह गई। महिला की लाश के टुकड़े फ्रिज से बरामद हुए।

साथ ही बिस्तर पर महिला का सिर, हाथ और दिल निकाल कर रखा गया था। शख्स अपने पालतू कुत्ते के साथ मिलकर मांस खा रहा था।

पुलिस ने 21 फरवरी 2019 को अल्बर्टो को गिरफ्तार कर लिया। जिसके बाद ये मामला ऑडिएंसिया प्रांतीय अदालत में पहुंचा।

यहां पर उसने कोर्ट को बताया कि उसे आवाजें आती थीं, जो उसे मां की हत्या करने के लिए कहती थीं।

उसके बचाव में वकील ने भी उसे मानसिक रोगी घोषित करवाना चाहा, लेकिन ज्यूरी मेंबर्स ने इस दलील को ख़ारिज कर दिया।

आरोपी ने अपना पक्ष रखते हुए ये भी कहा कि उसे कुछ भी याद नहीं है कि उसने अपनी मां को काटा और उसकी लाश के टुकड़ों को कब खाया।

उसने कहा कि मैं बहुत पछता रहा हूं जब मैं जागता हूं तो मुझे चिंता होती है। मैं अपनी मां के बारे में सोचता हूं और मैं बिल्कुल टूट गया हूं।

अदालत ने दो सप्ताह तक चले ट्रायल के बाद उसे हत्या और लाश के साथ अमानवीय व्यवहार करने का दोषी ठहराया। आरोपी बेटे को 15 साल और पांच महीने की जेल की सजा सुनाई गई है।

बताया गया है कि जब अल्बर्टो 15 साल का था, तब उसके पिता की मौत हो गई थी। उसके बाद से वह अपनी मां के साथ रह रहा था।

Back to top button