झारखंड की इन 4 लोस सीटों पर महिलाओं की वोटिंग से मिलेगी जीत, जानिए डिटेल…

News Aroma Desk

Jharkhand Lok Sabha Election: झारखंड में चार लोकसभा सीट (Lok Sabha Seat) पर महिला मतदाता निर्णायक भूमिका निभाएंगी क्योंकि वहां मतदाता सूची में महिलाओं की संख्या पुरुषों से अधिक है।

जिन चार लोकसभा सीट पर महिलाओं की संख्या पुरुषों से ज्यादा हैं, उनमें राजमहल, सिंहभूम, खूंटी और लोहरदगा शामिल हैं। ये सभी अनुसूचित जनजाति (Scheduled Tribe) के लिए आरक्षित सीट हैं।

सिंहभूम, खूंटी और Lohardaga में 13 मई को मतदान होगा जबकि राजमहल में एक जून को मतदान होगा। झारखंड में लोकसभा की 14 सीट हैं।

राजनीतिक दल मुख्यत: भारतीय जनता पार्टी (BJP) और ‘इंडिया’ (Indian National Developmental Inclusive Alliance) गठबंधन के साझेदारों ने लोकसभा चुनाव में महिला मतदाताओं का समर्थन जुटाने के लिए रणनीतियां बनाना शुरू कर दिया है।

झारखंड की मतदाता सूची के अनुसार, राज्य में खूंटी लोकसभा सीट पर पुरुषों की तुलना में सबसे अधिक महिला मतदाता हैं। इस निर्वाचन क्षेत्र में कुल 6,67,946 महिला मतदाता हैं जबकि पुरुष मतदाताओं की संख्या 6,44,311 है।

खूंटी सीट का प्रतिनिधित्व भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा करते हैं। उन्होंने 2019 में कांग्रेस के कालीचरण मुंडा से महज 1,445 मतों के मामूली अंतर से जीत हासिल की थी। BJP ने फिर उन्हें इस सीट से प्रत्याशी बनाया है। ‘इंडिया’ गठबंधन ने अभी तक इस सीट से अपने उम्मीदवार की घोषणा नहीं की है।

सिंहभूम एक और आदिवासी लोकसभा सीट है जहां पुरुषों के मुकाबले महिला मतदाता की संख्या अधिक है। इस निर्वाचन क्षेत्र में कुल 14,32,963 मतदाताओं में से 7,27,734 महिला मतदाता और 7,05,167 पुरुष मतदाता हैं।

सिंहभूम में चुनावी मुकाबला दिलचस्प होने वाला है क्योंकि यह पारंपरिक रूप से झारखंड पार्टी और कांग्रेस का गढ़ रहा है। दोनों दल पांच-पांच बार इस सीट से जीत दर्ज कर चुके हैं।

झारखंड की इकलौती कांग्रेस सांसद और पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा की पत्नी गीता कोड़ा हाल में BJP में शामिल हो गयीं और उन्हें सिंहभूम (ST) सीट से प्रत्याशी बनाया गया है।

उन्होंने 2019 में भाजपा के लक्ष्मण गिलुआ को हराया था। ‘INDIA’ गठबंधन ने अभी तक इस सीट से अपने उम्मीदवार की घोषणा नहीं की है लेकिन झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) इस सीट से चुनाव लड़ सकता है।

लोहरदगा लोकसभा सीट पर 7,07,402 पुरुष मतदाताओं के मुकाबले 7,19,616 महिला मतदाता हैं। भाजपा ने इस सीट से झारखंड से अपने राज्यसभा सदस्य समीर उरांव को खड़ा किया है जिनका उच्च सदन का कार्यकाल तीन मई को समाप्त हो रहा है।

राजमहल सीट पर कुल 16,82,219 मतदाताओं में से 8,41,217 महिला और 8,40,995 पुरुष मतदाता हैं। झामुमो के विजय कुमार हंसदक ने 2019 में राजमहल लोकसभा सीट पर जीत हासिल की थी।

उन्होंने भाजपा के हेमलाल मुर्मू को हराया था। भाजपा ने इस बार अपने पूर्व प्रदेश अध्यक्ष ताला मरांडी को राजमहल (ST) सीट से प्रत्याशी बनाया है जबकि झामुमो ने अभी तक अपने प्रत्याशी की घोषणा नहीं की है।

मतदाता सूची तैयार करने में शामिल एक निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि उन्हें कई आदिवासी बहुत क्षेत्रों में महिला लिंग अनुपात अधिक मिला है।

चुनावी सुधार पर राष्ट्रव्यापी अभियान ‘National Election Watch’ के राज्य समन्वयक सुधीर पाल ने ‘PTI’ को बताया कि आदिवासी महिलाएं सामाजिक-आर्थिक या सामाजिक-राजनीतिक गतिविधियों में अधिक सक्रिय हैं।

इस बीच, भाजपा के साथ ही ‘INDIA’ गठबंधन के साझेदारों ने इन आदिवासी क्षेत्रों में महिला मतदाताओं को लुभाने के लिए रणनीति बनाना शुरू कर दिया है।

झारखंड भाजपा के प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने कहा कि केंद्र सरकार ने उज्ज्वला योजना के तहत एलपीजी कनेक्शन, मातृ वंदना योजना और जन मन योजना जैसी कई योजनाएं और परियोजनाएं महिलाओं के लिए शुरू की हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘हम इन क्षेत्रों में इस संदेश के साथ महिला मतदाताओं के पास जाएंगे।’’

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता सोनल शांति ने कहा कि वे इन क्षेत्रों में महिलाओं के बीच ‘नारी न्याय’ और आदिवासी न्याय गारंट के साथ जाएंगे।

हमें Follow करें!

x