अच्छे कपड़े खरीदने बॉस ने महिला को दिए पैसे ‎तो कर दिया केस!

महिला ने अपने बॉस के रवैये को बताया लैंगिक भेदभाव

लंदन: ब्रिटेन में एक महिला सैलून में काम करती थी। उसके बॉस ने उसे ढंग के कपड़े खरीदने की हिदायत देते हुए कुछ पैसे दिए।

महिला को ये बात इतनी नागवार गुजरी कि उसने सैलून से निकलकर सीधा अपने बॉस पर केस ठोंक दिया। जानकारी के मुताबिक हेयरड्रेसर के तौर पर काम करने वाली लीसा थॉम्पसन के साथ ये घटना हुई, जो इस वक्त ब्रिटिश अखबारों में सुर्खियां बटोर रही है।

महिला ने अपने बॉस के रवैये को लैंगिक भेदभाव बताते हुए एम्प्लॉयमेंट ट्रिब्यूनल में इसकी शिकायत की।

सैलून में हेयरड्रेसर के तौर पर काम करने वाली लीसा थॉम्पसन हर रोज़ की तरह एक दिन जब अपने वर्कप्लेस पर पहुंची तो उसके बॉस ल्यूक डेनियल ने लीसा के प्रेज़ेंटेबल न होने पर सवाल उठाया।

लीसा थॉम्पसन की शिकायत के मुताबिक उस दिन पैर में चोट लगे होने के बावजूद वे सैलून गई थीं। जब वे एक क्लाइंट के साथ बात कर रही थीं, तो उनके सैलून मालिक ने उन्हें बाल पकड़कर एक तरफ खींचा और उनके कपड़ों और बालों को लेकर अपमानजनक टिप्पणी की।

डेनियल ने लीसा को 100 पाउंड देते हुए कहा कि वे पहले ढंग के कपड़े खरीदें और अपने बाल कटवाएं। इतना ही नहीं उन्होंने लीसा को मुफ्त हेयर ट्रीटमेंट भी ऑफर किया।

लीसा ने इस मुद्दे को एम्प्लॉयमेंट ट्रिब्यूनलर तक खींचने का फैसला किया और उन्होंने शिकायत में कहा कि उनके सात उम्र और लिंग के आधार पर भेदभाव हुआ है। वे लिंकनशायर के ‘अर्बन एंजेल्स सैलून’ में 16 महीने से काम कर रही थीं।

हालांकि कोर्ट ने इस मामले में सैलून मालिक की दलील को सही माना, जिसका कहना था कि कर्मचारी को अच्छी तरह तैयार होना चाहिए क्योंकि इससे सैलून की छवि पर प्रभाव पड़ता है।

जज ने दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद सैलून मालिक के पक्ष में फैसला सुनाते हुए लीसा के आरोपों को खारिज कर दिया ट्रिब्यूनल ने इस मामले में जो फैसला दिया, वो इस पूरे केस का टर्निंग प्वाइंट है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button