रांची में मिनी गन फैक्ट्री चलाने वाले जुगल लोहरा उर्फ बहरा ने पुलिस के समक्ष उगले कई राज, बताया-क्रिमिनल्स से ऑर्डर लेकर घर में बनाता था अवैध हथियार

पहले भी जेल जा चुका है फारूख, लूटपाट भी करता है

रांची: राजधानी रांची के पिठोरिया स्थित सांगा गांव में मिनी गन फैक्ट्री चलाने वाले गिरफ्तार जुगल लोहरा उर्फ बहरा ने जेल जाने से पहले कई खुलासे किए हैं।

उसने कहा है कि मैं आर्डर पर हथियार बनाता और बेचता हूं। मुझे अपराधियों की ओर से हथियारों की खरीदारी का आर्डर मिलता है। उसी ऑर्डर पर अपने घर में ही हथियार बनाने का काम करता रहा हूं।

जुगल बनाता है हथियार, फारूक करता है बिक्री

जुगल उर्फ बहरा ने अपने स्वीकारोक्ति बयान में बताया है कि वह फारूक अंसारी के साथ उसके भाई के क्रशर में पत्थर तोड़ने का काम करता है।

साथ ही पिछले कई सालों से अवैध रूप से देसी हथियार बनाकर बेचता है। हथियारों की मरम्मत भी करता है। इस काम में उसका सहयोग फारूक अंसारी भी करता है। जुगल लोहरा हथियार बनाता है और फारूक अंसारी उसे ले जाकर बेच देता है।

पहले भी जेल जा चुका है फारूख, लूटपाट भी करता है

जुगल के अनुसार फारुख पूर्व में भी जेल जा चुका है, लूटपाट भी करता है। हाल ही में एक देसी पिस्टल बनाकर फारुख को दिया था। जुगल ने कहा है कि वह अपने घर में ही हथियार बनाने के सारे सामान रखता है और वहीं हथियार भी बनाता है।

अपने स्वीकारोक्ति बयान के साथ जुगल लोहरा ने अपने घर से ही हथियार बनाने में प्रयुक्त सामान पुलिस को बरामद करवाया था। पुलिस ने उसी की निशानदेही पर मिनी गन फैक्ट्री से संबंधित सामान जब्त किया था।

20 नवंबर को हुई था मिनी गन फैक्ट्री का भंडाफोड़

बता दें कि बीते 20 नवंबर को पिठोरिया थाने की पुलिस ने मिनी गन फैक्ट्री का भंडाफोड़ करते हुए दो को गिरफ्तार किया था।

जबकि एक देसी पिस्टल के अलावा जुगल लोहरा के घर से एक अर्ध निर्मित सिंगल बैरल का देसी हथियार, लकड़ी के दो बंदूक का ढांचा, लोहे की हाथ से चलाने वाली एक मशीन, जिसमें हथियार बनाने वाली भट्ठी में लोहा गरम करने के लिए हवा दी जाती है। इसके अलावा भी अन्य सामान बरामद किए गए थे।

15 हजार में पिस्टल बेचने निकला था फारूख

सांगा गांव में चल रही मिनी गन फैक्ट्री में बनी देसी पिस्टल के साथ पकड़े गए फारूक अंसारी ने कहा है वह पिस्टल 15 हजार रुपये में बेचने निकला था। लेकिन इससे पहले ही दबोच लिया गया।

उसने बताया कि उसके पास से बरामद देसी पिस्टल मिनी गन फैक्ट्री चलाने वाले जुगल लोहरा से ली थी। इस देसी पिस्टल को ज्यादा दाम में वह बेचना चाहता था। इसलिए ग्राहक तलाश रहा था।

उसने बताया था कि वह जुगल लोहरा के साथ काम करता है, उसने बताया कि मिनी गन फैक्ट्री से बनी पिस्टल को वह कभी.कभी अपराध करने में भी इस्तेमाल करता था।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button