झारखंड हाई कोर्ट पहुंचा घंटाघर निर्माण मामला, याचिकाकर्ता ने कहा- नियम को ताक पर रखकर हो रहा निर्माण

रांची: झारखंड हाई कोर्ट से गढ़वा में बन रहे घंटाघर का निर्माण रुकवाने के लिए याचिका दायर की गयी है। मेदिनीनगर निवासी अजय कुमार उपाध्याय द्वारा दायर याचिका पर कोर्ट में सुनवाई हुई।

अदालत ने इस पर सरकार से एफिडेविट दायर कर डीसी द्वारा गठित कमिटी की रिपोर्ट मांगी है।

इस मामले के याचिकाकर्ता अजय उपाध्याय के अधिवक्ता राजीव कुमार के मुताबिक अदालत ने एक सप्ताह बाद मामले की सुनवाई की तारीख मुकर्रर करते हुए प्रार्थी की पूरी जानकारी भी मांगी है।

सुनवाई के दौरान सरकार की तरफ से अपर महाधिवक्ता दर्शना पोद्दार मिश्रा ने अदालत को बताया कि इस मामले में विवाद के बाद जिले के डीसी ने तीन सदस्यीय कमिटी का गठन किया है, जो मामले की जांच कर रही है।

प्रार्थी के अधिवक्ता ने अदालत को बताया कि इस पार्क का निर्माण वर्ष 2019 में किया गया था, लेकिन पिछले दिनों इसे ध्वस्त कर इसे एक व्यक्ति विशेष के नाम पर अपने पैसों से बनवाया जा रहा है।

अदालत ने सरकार से एफिडेविट मांगा है और वस्तुस्थिति की जानकारी की भी मांगी है। उल्लेखनीय है कि गढ़वा के रंका मोड़ स्थित किये जा रहे घंटा घर निर्माण का सत्ता पक्ष में शामिल और विपक्ष में शामिल दलों ने भी भारी विरोध किया था।

उनका आरोप है कि इंदिरा गांधी पार्क में पूर्व प्रधानमंत्री की प्रतिमा को छुपाकर निर्माण कराया जा रहा है। पूर्व विधायक सत्येंद्रनाथ तिवारी, भाजपा जिलाध्यक्ष ओमप्रकाश केशरी ने आरोप लगाया था कि नियम को ताक पर रखकर शहर में घंटाघर का निर्माण कराया जा रहा है। कई वर्षों से यहां पूर्व प्रधानमंत्री स्व. इंदिरा गांधी की प्रतिमा स्थापित है, लेकिन नया निर्माण करने से प्रतिमा छिप जा रही है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button