भारत

तमिलनाडु में चुनाव से पहले आरटीआई कार्यकर्ताओं ने थामा पार्टियों का दामन

चेन्नई: विधानसभा चुनाव से पहले, सूचना के अधिकार (आरटीआई) के कई कार्यकर्ता तमिलनाडु की चुनावी लड़ाई में मुख्यधारा की पार्टियों की टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं, जिसमें द्रमुक, अन्नाद्रमुक और वीसीके शामिल हैं।

पिछले 15 वर्षों से एक आरटीआई कार्यकर्ता सेंथिल अरुमुगम लोगों के जीवन से संबंधित कई मुद्दों को उठाते रहे हैं। अरुमुगम पल्लावरम निर्वाचन क्षेत्र से मक्कल नीधि मय्यम (एमएनएम) के बैनर तले चुनाव लड़ रहे हैं।

अरुमुगम ने आईएएनएस से बातचीत में कहा, मैं पिछले पंद्रह वर्षों से एक आरटीआई कार्यकर्ता रहा हूं और कई मुद्दों को सामने लाया, जिन्हें दबा दिया गया था।

अब मैं चुनाव लड़कर इसे बड़े पैमाने पर लोगों तक ले जाना चाहता हूं और इसमें जीत मुझे सीधे विधायक के रूप में लोगों के मुद्दे में हस्तक्षेप करने में मेरी मदद करेगी।

कई कार्यकर्ताओं ने अब मुख्यधारा के राजनीतिक दलों की ओर रुख किया है, क्योंकि विदेशी चंदे पर रोक लगाने वाले सख्त कानून को लागू करने के बाद से उनकी फंडिंग में कमी है।

चेन्नई स्थित आरटीआई कार्यकर्ता, आर.आर. सेंथिलनाथन, जो एक एनजीओ भी चलाते हैं, ने कहा, केंद्र सरकार ने विदेशी फंडों पर सख्त प्रतिबंध लगाया है और यह हमारी गतिविधियों में एक बड़ी बाधा पैदा कर रहा है।

मैं अब वीसीके का समर्थन कर रहा हूं और उन्हें एसी सामग्री प्रदान कर रहा हूं। जो उनके चुनाव प्रचार के लिए उपयोगी होगा।

उन्होंने आगे कहा, मैं उनसे पैसे वसूल रहा हूं, क्योंकि मेरे पास एक पैसा भी नहीं है। कुछ बड़े एनजीओ से फंड को रोक दिया गया जो अब मारे-मारे फिर रहे हैं और वजूद में रहने के लिए कड़ी मशक्कत कर रहे हैं।

तांबरम से चुनाव लड़ रहे शिव इलांगो ने आईएएनएस को बताया, मैंने करुणानिधि के खिलाफ चुनाव लड़ा था और यह मेरे लिए कोई नई बात नहीं है।

हालांकि, धन की कमी है और मैं अब सक्रियता से मुख्यधारा की राजनीति में जा रहा हूं, जो लोगों की सेवा करने का सीधा रास्ता है।

जबकि चेन्नई में और उसके आसपास कई नागरिक समाज संगठन और एनजीओ अपने मामलों का प्रबंधन करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं, कई अन्य अब मुख्यधारा के राजनीतिक दलों में अपना हाथ आजमा रहे हैं जो उनके मामलों की देखभाल करेंगे।

चेन्नई के द्रमुक नेता एम. अरुमुगम ने कहा, उनमें से कई अन्य लोगों के बीच आरटीआई कार्यकर्ताओं को किसी भी तरह की औपचारिक राजनीतिक और सामाजिक प्रशिक्षण की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि वे पहले से ही इस तरह के मामलों में हैं और हमारे लिए वे एक बड़ी मदद हैं, क्योंकि वे हमें बहुत सारी जानकारियां प्रदान करते हैं।

आधुनिक दुनिया में जानकारी, जागरूकता अहम है, इसलिए हम उनकी मदद कर निर्वाचन क्षेत्र और स्थानीय मुद्दों के बारे में प्रत्येक जानकारी प्राप्त करने में उनकी सहायता लेते हैं।

तमिलनाडु में कुल 234 सीटों पर एक ही चरण में 6 अप्रैल को मतदान होना है। मतगणना 2 मई को होगी।

Back to top button