कश्मीर में चुप्पी को शांति के तौर पर देखना गलत : महबूबा मुफ्ती

श्रीनगर: पूर्व मुख्यमंत्री और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने सोमवार को कहा कि कश्मीर में चुप्पी को शांति की निशानी मानना गलत है।

श्रीनगर में पत्रकारों से बात करते हुए महबूबा मुफ्ती ने कहा, जम्मू-कश्मीर में लोगों का गला घोंटा गया है और यहां जबरदस्ती चुप्पी को शांति के तौर पर देखना सही नहीं है।

उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर में अतिरिक्त बल भेजना इस बात का स्पष्ट संकेत है कि स्थिति अच्छी नहीं है।

उन्होंने कहा, कश्मीर में हालिया नागरिक हत्याएं प्रशासन की पूरी तरह से विफलता है जो इस तरह की घटनाओं को रोकने में विफल रही है।

पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने केंद्र सरकार और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर कई आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में भ्रष्टाचार अपने चरम पर है। प्राइम मिनिस्टर केयर्स फंड सबसे बड़ा घोटाला है।

महबूबा ने कहा कि प्रधानमंत्री केयर फंड से खरीदे गए वेंटिलेटर श्रीनगर में ही नहीं गुजरात में भी खराब पड़े हैं।

उन्होंने कहा, प्रधानमंत्री केयर फंड में बड़ी रकम ट्रांसफर की गई है और कोई भी लोगों के प्रति जवाबदेह नहीं है। इस फंड के जरिए खरीदे गए खराब वेंटिलेटर स्पष्ट संकेत हैं कि यह सबसे बड़ा घोटाला है।

महबूबा ने आगे कहा, भ्रष्टाचार मुक्त सरकार के बारे में लंबे-चौड़े दावे किए जाते हैं, लेकिन वर्तमान समय में भ्रष्टाचार अपने चरम पर है और परिष्कृत तरीके से चल रहा है।

उन्होंने कहा, भाजपा द्वारा दिए गए बयान तथ्यों पर आधारित नहीं हैं। ये सिर्फ शब्द हैं और इससे आगे कुछ नहीं। इन बयानों का कोई महत्व नहीं है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button