भारत

अग्निपथ विरोध : सिकंदराबाद स्टेशन पर हिंसा के बाद 72 ट्रेनें रद्द, यात्री परेशान

दक्षिण मध्य रेलवे ने एक विशेष हेल्प डेस्क की स्थापना की है, ट्रेन रद्द/डायवर्सन और ट्रेनों के आंशिक रद्दीकरण के बारे में अपडेट के लिए यात्री हेल्प डेस्क नंबर 040-27786666 पर संपर्क कर सकते हैं

हैदराबाद: सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन (Secunderabad Railway Station) पर शुक्रवार को बड़े पैमाने पर हुई हिंसा के बाद रेलवे अधिकारियों ने 72 ट्रेनों को रद्द कर दिया है।

दक्षिण मध्य रेलवे (South Central Railway) ने भी 12 ट्रेनों को आंशिक रूप से रद्द कर दिया और तीन अन्य को डायवर्ट किया।

केंद्र सरकार की नई सेना भर्ती नीति अग्निपथ के खिलाफ सैकड़ों युवाओं के हिंसक विरोध के बाद सिकंदराबाद से चलने वाली या स्टेशन से गुजरने वाली सभी ट्रेनों को रद्द कर दिया गया।

SCR के एक अधिकारी ने कहा कि यात्रा करने वाले लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए ट्रेन सेवाओं को निलंबित कर दिया गया है।

ट्रेनों के रद्द होने और कुछ ट्रेनों के संचालन को लेकर व्याप्त भ्रम की वजह से यात्रियों को भारी असुविधा का सामना करना पड़ा

रद्द की गई ट्रेनें …

रद्द की गई ट्रेनों में हैदराबाद-शालीमार, उमदानगर-सिकंदराबाद, सिकंदराबाद-उमदानगर और सिकंदराबाद-सैनगर शिरडी शामिल हैं।

सिकंदराबाद-रेपल्ले, जो सिकंदराबाद से शुरू होनी थी, चेरलापल्ली स्टेशन से शुरू हुई।

हावड़ा-सिकंदराबाद, सिरपुर कागजनगर-सिकंदराबाद, हैदराबाद-कुरनूल सिटी और गुंटूर-विकाराबाद आंशिक रूप से रद्द रहे।

ईस्ट कोस्ट रेलवे ने दानापुर-सिकंदराबाद और पटना-एनार्कुलम ट्रेनों को रद्द करने की घोषणा की।

दक्षिण मध्य रेलवे ने एक विशेष हेल्प डेस्क की स्थापना की है। ट्रेन रद्द/डायवर्सन और ट्रेनों के आंशिक रद्दीकरण के बारे में अपडेट के लिए यात्री हेल्प डेस्क नंबर 040-27786666 पर संपर्क कर सकते हैं।

हिंसा के बाद दक्षिण मध्य रेलवे ने 66 MMTS ट्रेनों या उपनगरीय लोकल ट्रेनों को भी रद्द कर दिया।

प्रदर्शनकारियों ने कम से कम चार ट्रेनों की बोगियों में आग लगा दी, स्टेशन में तोड़फोड़ की और ट्रेनों में ले जाए जा रहे सामानों को भी आग के हवाले कर दिया।

स्थिति को नियंत्रित करने के लिए पुलिस द्वारा की गई फायरिंग (firing) में एक व्यक्ति की मौत हो गई और चार अन्य घायल हो गए।

प्रदर्शनकारियों ने छह घंटे से अधिक समय तक स्टेशन (station) पर पटरियों पर धरना जारी रखा।