झारखंड के अब इस जिले में मिला ब्लैक फंगस का मरीज़

रांची: कोरोना महामारी के बीच मंगलवार को जमशेदपुर के आदित्यपुर के एक युवक में ब्लैक फंगस मिला है। उसे टीएमएच में भर्ती कराया गया है।

उल्लेखनीय है कि सोमवार को भी राज्य के जामताड़ा जिले में 60 साल के एक बुजुर्ग ब्लैक फंगस से संक्रमित मिले थे।

बुजुर्ग का इलाज  रांची के रिम्स में चल रहा है। इधर, रिम्स के ओल्ड ट्रामा सेंटर में भर्ती ब्लैक फंगस के तीन मरीजों में दो मरीजों की स्थिति अभी भी गंभीर बताई जा रही है।

उल्लेखनीय है कि ब्लैक फंगस से अब तक झारखंड में चार लोगों की मौत हो चुकी है।

राज्य में ब्लैक फंगस के अब तक लगभग आठ से अधिक मरीज मिले हैं।

कोरोना की रिकवरी रेट में भी वृद्धि 

झारखंड में कोरोना की रिकवरी रेट में भी वृद्धि हो रही है। कोरोना के 5463 मरीज स्वस्थ हुए है।

मंगलवार को अबतक कोरोना के 2507नए केस मिले हैं। जबकि राज्य में कोरोना से 60 मरीज की मौत हुई है।

मृतकों में रांची से दस, बोकारो से सात, चतरा से दो, धनबाद से चार, पूर्वी सिंहभूम (जमशेदपुर) से 12, गढ़वा से दो, गिरिडीह से दो, गुमला से दो, हजारीबाग से छह, जामताड़ा से एक, खूंटी से एक, कोडरमा से एक, लातेहार से एक, पलामू से एक, रामगढ़ से दो, सरायकेला से एक, सिमडेगा से दो और पश्चिमी सिंहभूम (चाईबासा )से तीन मरीज शामिल है।

किस जिले से कितने केस मिले

स्वास्थ विभाग के अनुसार रांची से 292,बोकारो से 137,चतरा से20,देवघर से 76,धनबाद से 151, दुमका से 13,पूर्वी सिंहभूम (जमशेदपुर )से 392,गढ़वा से 99, गिरिडीह से 85, गोड्डा से 32,गुमला से182,हजारीबाग से 215 ,जामताड़ा से 33, खूंटी से 94,कोडरमा से 73,लातेहार से 55,लोहरदगा से41, पाकुड़ से 4, पलामू से 127,रामगढ़ से 119,साहेबगंज से 21,सरायकेला से52, सिमडेगा से 82और पश्चिमी सिंहभूम (चाईबासा) से 112मरीज मिले है।

कुल कोविड-19 का मामला अब 318009

राज्य में कुल कोविड-19 का मामला अब318009हो गया हैं। इनमें 33524 सक्रिय केस हैं।

जबकि 279946मरीज ठीक हुए हैं। अब तक राज्य में 4539 मरीज की मौत कोरोना से हुई हैं। झारखंड में कोरोना की रिकवरी रेट 88.03प्रतिशत है।

रांची में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 292 नए केस मिले हैं। जबकि जिले में कोरोना से 10 लोगों की मौत हुई है।

कुल एक्टिव मरीजों की संख्या 6768 है। 1616 मरीज डिस्चार्ज हुए हैं। अब तक कुल 82096 पॉजिटिव केस आए हैं, जिनमें 73907 मरीज डिस्चार्ज हो चुके हैं।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button