झारखंड में यहां पांच बच्चों की मां का युवक पर आया दिल, डेढ़ साल रहे लिव इन और फिर हुआ यह खौफनाक अंजाम

दुमका: झारखंड की उपराजधानी दुमका के मेहरमा थाना क्षेत्र में एक्सट्रा मैरिटल अफेयर का अजीबोगरीब मामला सामने आया है, जहां 38 वर्षीया पांच बच्चों की मां आशा देवी का मानगढ़ 25 वर्षीय युवक मो इसराफील पर दिल आ गया।

दोनों के बीच दो साल तक प्रेम प्रसंग चलता रहा। इसी क्रम में दोनों लगभग डेढ़ साल तक घर से भागकर लिव इन में भी रहे।

इस बीच महिला का शादी से इनकार करने पर युवक ने चाकू घोंप घोंपकर हत्या कर डाली।

मामले में आरोपी मो इसराफील ने अपना अपराध स्वीकार कर लिया है, जिसके बाद पुलिस ने उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है। हत्याकांड का खुलासा मेहरमा प्रभाग के इंस्पेक्टर आरके तिवारी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर किया है।

बताया कि 4 जनवरी की सुबह मेहरमा बैहियार में विवाहिता आशा देवी की चाकू घोंप कर हत्या करने वाला मु इसराफील उम्र 25 वर्ष को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में गोड्डा जेल भेज दिया है।

अभियुक्त ने स्वीकार किया अपराध

इंस्पेक्टर आरके तिवारी ने बताया कि बीते 4 जनवरी की रात ग्राम बनौधा शीतला स्थान के समीप आशा देवी की मानगढ़ निवासी मु इसराफील ने चाकू घोंप कर हत्या कर दी थी।

जिसके बाद मृतका के परिजनों ने इसराफील पर नामजद प्राथमिकी दर्ज कराई थी। 11 जनवरी को अभियुक्त मोहम्मद इसराफील को भागने के क्रम में घोरीचक चौक के समीप से गिरफ्तार कर लिया गया।

अभियुक्त इसराफील ने अपना अपराध स्वीकार किया है। बताया कि मृतका की ओर से शादी का विरोध करने एवं साथ रहने के लिए तैयार नहीं होने के कारण छुरा मारकर हत्या कर दी।

क्या है मामला

मृतका आशा देवी व अभियुक्त इसराफील दोनों के बीच पिछले दो वर्षो से प्रेम प्रसंग चला आ रहा था। मृतका पांच बच्चो की मां थी।

अंतर जाति होने के कारण परिजनों को यह मंजूर नहीं था। मृतका को इसराफील भगाकर ढेर साल तक गुजरात में भी रहा था।

मेहरमा थाने में मृतका के पति मनोज पासवान ने पत्नी को भगाकर ले जाने का मामला भी दर्ज कराया था, जिसके बाद इसराफील ने आशा देवी को वापस परिजनों को सौंप दिया था।

उसके बाद दोनों अलग अलग रह रहे थे, इधर कुछ दिन पूर्व इसराफील कहीं दूसरी जगह शादी करना चाह रहा था।

लेकिन आशा देवी को यह मंजूर नहीं था, उसने इसराफिल को फोन कर बुलाया और 4 जनवरी की सुबह 4 बजे शौच के बहाने अपने प्रेमी से मिलने चली गई, जहां इसराफिल ने गुस्से में आकर देवी को चाकू घोंप कर हत्या कर दी थी।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button