झारखंड : ‘पति, पत्नी और वो’ के एक केस को सॉल्व करने पर इस थाना प्रभारी को मिला इनाम

दुमका: आशिक संग मिलकर पति की हत्या करने के मामले का दो साल बाद खुलासा करने पर डीआईजी सुदर्शन मंडल ने हंसडीहा थाना प्रभारी को सम्मानित किया।

उत्कृष्ट कार्य करने और नाटकीय ढंग से आरोपी पत्नी और उसके आशिक की गिरफ्तारी को लेकर थाना प्रभारी आकृष्ट अमन को डीआईजी ने नकद पुरस्कार से सम्मानित किया।

केस के अनुसंधानकर्त्ता थाना प्रभारी ने जमीन खरीदार बनकर नाटकीय तरीके से नगर थाना क्षेत्र के शिवपहाड़ के बाउरीपाड़ा से हत्यारोपी पत्नी और उसके आशिक को धर दबोचने में कामयाब हुए थे।

डीआईजी ने अपराध गोष्ठी की समीक्षा करते हुए 22 दिसंबर को थाना क्षेत्र के चर्चित हत्याकांड में खुलासा को लेकर थाना प्रभारी को विशेष ध्यान आकृष्ट कराया था।

पुलिस ने मामले में आठ जून 2019 को दर्ज कांड संख्या 54/19 में भादवी की धारा 341, 323,120 बी, 307 के तहत मामला दर्ज किया था। बाद में मामले को भादवि की धारा 302 के तहत हत्याकांड में परिवर्तित किया गया था।

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2019 में हंसडीहा थाना क्षेत्र में जीवन नामक व्यक्ति की चाकू गोंद कर हत्या हुई थी। जीवन की हत्या उसकी पत्नी और उसके आशिक गौरव ने की थी।

हत्या के बाद आरोपी पुलिस की गिरफ्त से दूर थे। पुलिस मामला दर्ज कर छानबीन में जुट गयी थी।

इसी बीच जीवन की पत्नी आशा देवी और उसका प्रेमी शादी कर दुमका में किराये के मकान में रहने लगे। आरोपी आशिक दुमका में अर्बन स्टोर में काम कर जीवनयापन कर रहा था।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button