झारखंड से तमिलनाडु ले जा रहे आठ लड़कियों को मानव तस्करों से कराया गया मुक्त

मेदिनीनगर: पलामू जिले से तमिलनाडु ले जाई जा रहीं आठ लड़कियों को पुलिस ने मानव तस्करों के चंगुल से छुड़ाने में कामयाबी पाई है।

इन लड़कियों को डालटनगंज रेलवे स्टेशन से मुक्त कराया गया है। तस्करों के चंगुल से मुक्त करा गई लड़कियों में दो नाबालिग हैं।

सभी लड़कियां पलामू के हैदर नगर थाना क्षेत्र के गंज और सोवा बरेवा इलाके की रहने वाली हैं। मुक्त कराई लड़कियों को फिलहाल महिला थाने में रखा गया है। श्रम विभाग की कागजी कार्रवाई के बाद सभी को उज्ज्वला गृह भेजा जाएगा।

पुलिस ने मौके से एक महिला को भी हिरासत में लिया है। महिला पर इन लड़कियों की तस्करी का आरोप है। आरोपी महिला भी हैदरनगर इलाके की रहने वाली है।

जिला श्रम पदाधिकारी अनिल रंजन ने बताया कि लड़कियों को तमिलनाडु ले जाया जा रहा था सभी को मुक्त करा लिया गया है।

मामले में श्रम कानूनों के तहत कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि किसी भी मजदूर का निबंधन नहीं हुआ है।सभी का निबंधन कर परिवार को पुनर्वास से जोड़ा जाएगा।

पुलिस ने रेलवे स्टेशन से जिस महिला को हिरासत में लिया है, वह महिला जेएसएलपीएस से जुड़ी हुई है।

इस संबंध में जेएसएलपीएस के हैदर नगर के बीपीएम सुनील कुमार ने कहा कि महिला जेएसएलपीजी से जरूर जुड़ी हुई है लेकिन विभाग की ऐसी कोई योजना नहीं थी कि लड़कियों को तमिलनाडु भेजा जाए।

योजना के तहत लड़कियों को पहले ट्रेनिंग दिया जाता है, उसके बाद सामान्य प्लेसमेंट कंपनी में उन्हें नौकरी दिलायी जाती है। लेकिन उनकी ओर से किसी को भी बाहर नहीं भेजा जा रहा था।

लड़कियों ने बताया कि वह नौकरी के लिए तमिलनाडु जा रहीं थीं, जहां उन्हें आठ से 15 हजार रुपये तक वेतन दिया जाना था।

कई लड़कियों ने बताया कि वे बेहद गरीब परिवार से हैं उनके रिश्तेदारी की कई लड़कियां भी तमिलनाडु गई हुईं हैं।

Back to top button