Farmer Protest : कनॉट प्लेस में मानव श्रंखला बनाते हिरासत में लिए गए आप विधायक

नई दिल्ली: किसान आंदोलन के समर्थन में आम आदमी पार्टी की यूथ विंग ने मंगलवार को दिल्ली के कनॉट प्लेस में प्रदर्शन करने का प्रयास किया।

इस दौरान पुलिस ने आम आदमी पार्टी के विधायक जरनैल सिंह समेत अन्य कई नेताओं को हिरासत में ले लिया। आम आदमी पार्टी के ये नेता कनॉट प्लेस में अपना विरोध जताते हुए मानव श्रृंखला बनाना चाहते थे।

पश्चिमी दिल्ली से विधायक जरनैल सिंह, पंजाब में आम आदमी पार्टी के प्रभारी भी हैं। बड़ी संख्या में पंजाब के किसान कृषि कानूनों का विरोध करने दिल्ली बॉर्डर पर एकत्रित हैं।

पुलिस ने किसानों को दिल्ली बॉर्डर पर ही रोक रखा है। इस बीच जरनैल सिंह मंगलवार दोपहर अपने कुछ सहयोगियों के साथ कनॉट प्लेस में अपना विरोध जताते हुए मानव श्रृंखला बनाने पहुंचे थे।

हालांकि पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए उन्हें हिरासत में ले लिया।

आम आदमी पार्टी ने कहा, दिल्ली के कनॉट प्लेस में काले खेती कानूनों के खिलाफ विरोध करते हुए जरनैल सिंह को दिल्ली पुलिस ने गैरकानूनी तरीके से हिरासत में लिया है।

किसानों के सम्मान में आप की यूथ विंग मैदान में उतरी है।

जरनैल सिंह ने इस विषय पर जानकारी देते हुए कहा, किसान आंदोलन के समर्थन में दिल्ली के नौजवान सड़क पर उतरे हैं।

दिल्ली के कनॉट प्लेस में काले खेती कानूनों के खिलाफ विरोध करते हुए, दिल्ली पुलिस ने हमें हिरासत में लिया है। किसानों के सम्मान में देश का नौजवान मैदान में आ गया है।

मौके पर मौजूद आम आदमी पार्टी के अन्य कार्यकर्ताओं ने कहा कि हम किसानों की मांगों के समर्थन में शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन के लिए ह्यूमन चेन बनाने जा रहे थे, लेकिन पुलिस ने हमें शांतिपूर्ण विरोध नहीं करने दिया।

इससे पहले जरनैल सिंह और उनके कुछ अन्य साथियों ने 27 नवंबर को किसानों के समर्थन में प्रधानमंत्री आवास के समीप प्रदर्शन करने की कोशिश की थी। तब भी दिल्ली पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया था।

जरनैल सिंह के साथ पंजाब से आए आम आदमी पार्टी के कई अन्य नेता व कार्यकर्ता भी इस विरोध में शामिल थे। यह लोग कृषि कानूनों के विरोध में प्रधानमंत्री आवास के बाहर प्रदर्शन करने पहुंचे थे।

दिल्ली सरकार किसानों के आंदोलन का समर्थन कर रही है। दिल्ली की केजरीवाल सरकार में गृहमंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा, किसानों की मांग जायज है।

केंद्र सरकार को किसानों की मांगें तुरंत माननी चाहिए। किसानों का आंदोलन बिल्कुल अहिंसक है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button