झारखंड

रांची में दो हजार की जगह 10 हजार रुपये प्रति ट्रैक्टर बिक रहा बालू

बिक्री पर लगे प्रतिबंध से बालू कारोबारियों की चांदी

रांची : राज्य सरकार द्वारा राज्यभर में बालू पर प्रतिबंध के बाद कारोबारियो का धंधा और पहले की तुलना में पांच गुणा मुनाफे वाला कारोबार हो गया है।

सरकार द्वार लगाए गए प्रतिबंध के बाद बालू के अवैध कारोबारी (Illegal trade) अब जरूरतमंद लोगों से मुंहमांगी कीमत वसूल रहे हैं।

प्रतिबंध से पहले दो हजार रुपये प्रति ट्रैक्टर बिकने वाला बालू अब 10 हजार रुपये तक बिक रहा है, वहीं प्रशासन की नाक के नीचे रातू में बालू की बिक्री धड़ल्ले से जारी है।

प्रति ट्रैक्टर बालू के दस हजार रुपये तक मांगे जा रहे

लोगों का कहना है कि कुछ दिन पहले तक एक ट्रैक्टर बालू तीन हजार रुपये में बिक रहा था। कारोबारियों ने उसे बढ़ाकर पांच हजार रुपये प्रति ट्रैक्टर (Tractor) कर दिया।

अब लोगों से प्रति ट्रैक्टर बालू के दस हजार रुपये तक मांगे जा रहे हैं। 35-40 हजार रुपये प्रति हाइवा बिक रहा बालू बुधवार की सुबह एक हाइवा से पिर्रा स्थित डंप स्थल पर बालू गिराया जा रहा था।

जब उससे बालू का रेट पूछा गया तो उसने 35-40 हजार रुपये तक प्रति हाइवा बालू बेचने की बात कही।

एक हाइवा में छह से सात ट्रैक्टर बालू आता है, जिसे कारोबारियों (businessmen) ने 10 हजार रुपये प्रति ट्रैक्टर बेचना शुरू कर दिया है, जबकि प्रतिबंध से पहले एक ट्रैक्टर बालू दो हजार रुपये में आसानी से मिल जाता था।