झारखंड : इस काम से जा रहे हैं तो पुलिसवाले आपसे नहीं करेंगे E-PASS की डिमांड, DGP नीरज सिन्हा ने दिया निर्देश

रांची: राज्य सरकार ने झारखंड में लाॅकडाउन (स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह) 27 मई की सुबह छह तक बढ़ा दिया है। साथ ही कई नई पाबंदियां भी लगाई हैं, जो 16 मई की सुबह छह बजे से प्रभावी होंगी।

वहीं पहले से लगाए गए प्रतिबंध जारी रहेंगे। नई पाबंदियाें के तहत शहर में अब बिना ई-पास के निजी वाहनों से निकलने पर रोक लगा दी गई है।

दूसरे राज्यों के साथ-साथ राज्य के अंदर भी बसों के परिचालन पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया गया है।

शादी अब केवल घर या कोर्ट में होगी। न बाजा बजेगा और न ही बारात निकलेगी। घर या कोर्ट में होने वाली शादी में दूल्हा-दुल्हन समेत अधिकतम 11 लोग ही शामिल हो सकेंगे।

वहीं पास को लेकर लोगों को हो रही दिक्कतों को देखते हुए झारखंड के डीजीपी नीरज सिन्हा ने मेडिकल और इलाज के काम से जुड़े लोगों से ई-पास की डिमांड नहीं करने का निर्देश दिया है।

इस ऑडियो में उन्होंने सख्त हिदायत देते हुए नियमों का पालना करने का भी निर्देश दिया गया है। ऑडियो आप आगे की खबर में मिलेंगे जिसे आप सुन सकते हैं की क्या-क्या निर्देश दिए गए हैं।

इस संबंध में रविवार को राज्य के सभी एसपी को डीजीपी ने निर्देश दिए हैं।

इस ऑडियो में वो कह रहे हैं की चेकपोस्ट पर तैनात एक-एक जवान को इस बारे में ब्रीफ कर दिया जाये की इस तरह के ज़रुरत में निकल रहे लोगों किसी भी तरह से नही रोकना है।

इसी तरह उन्होंने ज़रूरी सामान ले जा रही गाड़ियों को भी रोकने से मना किया है जिससे टिका या मेडिकल से जुड़ा सामान सही वक़्त पर पहुंच सके।

इस ऑडियो वो ये भी कह रहे हैं की पुलिसकर्मी इन सभी बातों का ध्यान रखें नहीं तो किसी के साथ कभी कोई घटना होती है तो इसके पुलिस को ज़िम्मेदार ठराया जायेगा और ये सही नही है।

साथ उन्होंने ये हिदायत देते हुए कहा है की मेडिकल ज़रुरत में जा रहे लोगों से पास की मांग की और ऐसे में किसी भी प्रकार की घटना होती है तो इसके लिए ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी पर कार्रवाई भी की जा सकती है।

उन्होंने सभी एसपी को इसका पालन करने को कहा है। साथ ही सरकार के दिशा-निर्देशों का कड़ाई से पालन कराने के निर्देश भी दिए हैं।

उल्लेखनीय है कि डीजीपी ने शनिवार को राज्य के सभी आईजी, डीआईजी, एसएसपी और एसपी के साथ वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिये बैठक भी की थी। डीजीपी ने इस दौरान कई दिशा-निर्देश दिये थे।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button