भारत

मुख्तार अंसारी को कालीबाग कब्रिस्तान में किया गया सुपुर्द-ए-खाक

बता दें कि मुख्तार अंसारी की कार्डियक अरेस्ट (Cardiac Arrest) से गुरुवार को मौत हो गई थी। शुक्रवार को बांदा मेडिकल कॉलेज में मुख्तार का Postmortem हुआ, जिसके बाद बेटे उमर अंसारी के साथ शव गाजीपुर लाया गया।

Mukhtar Ansari Funeral : मुख्तार अंसारी को सुपुर्द-ए-खाक किया गया। कालीबाग (Kalibagh)  के कब्रिस्तान में दफ्न किया गया।

मुख्तार अंसारी के जनाजे में समर्थकों की भारी भीड़ (Crowd) देखने को मिली।

बता दें कि परिवार के लोगों को ही मिट्टी देने की इजाजत दी गई।

Image

बता दें कि मुख्तार अंसारी की कार्डियक अरेस्ट (Cardiac Arrest) से गुरुवार को मौत हो गई थी। शुक्रवार को बांदा मेडिकल कॉलेज में मुख्तार का Postmortem हुआ, जिसके बाद बेटे उमर अंसारी के साथ शव गाजीपुर लाया गया।

मुख्तार अंसारी का परिवार

हत्या, रंगदारी जैसे कई अपराधों में दोषी मुख्तार अंसारी का जन्म गाजीपुर जिले के मोहम्मदाबाद में हुआ था।

मुख्तार के पिता का नाम सुबहानउल्लाह अंसारी और मां का नाम बेगम राबिया था। गाजीपुर में मुख्तार अंसारी के परिवार की पहचान एक राजनीतिक परिवार की है।

17 साल से ज्यादा वक्त से जेल में बंद रहे मुख्तार अंसारी के दादा डॉक्टर मुख्तार अहमद अंसारी स्वतंत्रता सेनानी थे। गांधी जी के साथ काम करते हुए वह 1926-27 में कांग्रेस के अध्यक्ष भी रहे‌।

मुख्तार के नाना ब्रिगेडियर मोहम्मद उस्मान को 1947 की लड़ाई में शहादत के लिए महावीर चक्र (Mahavir Chakra) से नवाजा गया था।

x