यूपी में एंट्री सख्त, मुंबई और दिल्ली सहित दूसरे प्रदेशों से आने वालों के लिए नया आदेश

नई दिल्ली: कोरोना की तीसरी लहर रोकने के लिए योगी सरकार अभी से सतर्कता बरत रही है।

इसी के तहत राज्य सरकार कोरोना प्रभावित राज्यों से यूपी आने वालों के लिए निगेटिव आरटीपीसीआर रिपोर्ट या फिर दोनों डोज वैक्सीन लगवाए जाने का प्रमाण पत्र साथ लाना अनिवार्य करने जा रही है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टीम-9 की बैठक में अधिकारियों को निर्देश दिया कि इसके लिए जल्द ही विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किया जाए।

यह भी कहा कि ट्रेन, हवाई जहाज व बस आदि से यूपी आने वाले कोविड पॉजिटिव पाए जा रहे हैं।

इसलिए ऐसे लोगों की कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग और जांच जरूर की जाए। विशेषज्ञों के भविष्य के आकलन पर विशेष ध्यान दिया जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कोविड टीकाकरण का काम सुचारु रूप से चल रहा है। यूपी चार करोड़ कोविड वैक्सीन लगाने वाला देश का पहला राज्य बनने जा रहा है।

उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि कोविड वैक्सीनेशन के लिए ऑनलाइन पंजीकरण की प्रक्रिया को प्रोत्साहित किया जाए।

कोरोना महामारी के बीच प्रदेश सरकार ने लोगों के जीवन और जीविका को सुरक्षित रखने के साथ विकास परियोजनाओं को भी जारी रखा।

पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का कार्य पूर्णता की ओर है, तो गंगा एक्सप्रेस-वे के लिए 89 फीसदी से अधिक भूमि क्रय कर ली गई है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में हर दिन के साथ कोविड महामारी पर नियंत्रण की स्थिति और बेहतर होती जा रही है।

अलीगढ़, चित्रकूट, हाथरस, कासगंज, महोबा, श्रावस्ती जिले और कोरोना मुक्त हो चुके हैं। यहां अब कोविड का एक भी मरीज नहीं है।

प्रदेश के 34 जिले ऐसे हैं, जहां कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या इकाई अंक और 33 जिलों में दहाई अंक में एक्टिव केस हैं।

प्रदेश के 40 जिलों में संक्रमण का एक भी नया केस नहीं पाया गया। लखनऊ में ही दहाई अंक में कोविड संक्रमित मरीजों की पुष्टि हुई।

इस स्थिति को और बेहतर बनाने के लिए ट्रेस, टेस्ट और ट्रीट के मंत्र के अनुरूप सभी जरूरी प्रबंध किए जाएं।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button