सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट की तस्वीर लेने पर लगी पाबंदी

नई दिल्ली: केंद्रीय लोक निर्माण विभाग ने सेंट्रल विस्टा परियोजना के अगले चरण के दौरान फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी के साथ-साथ गैर-जरूरी आगंतुकों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया है।

आपको बता दें कि इस चरण में एक कॉमन सचिवाल का काम होना है। विभाग ने कोरोना के प्रकोप से इस निर्माण कार्य में जुटे लोगों को बचाने के लिए कई दिशा-निर्देश जारी किए हैं।

इनमें इस क्षेत्र में प्रवेश करने वालों के लिए पीपीई किट का उपयोग अनिवार्य कर दिया गया है।

इस क्षेत्र में प्रवेश करने वाले सभी लोगों द्वारा पीपीई (फेस मास्क, हैंड ग्लव्स और अन्य जो लागू हो) का उपयोग अनिवार्य है।

फिर से इस्तेमामल की जाने वाली पीपीई किट को अच्छी तरह से साफ किया जाना चाहिए और दूसरों के साथ साझा नहीं किया जाना चाहिए।

साइट पर गैर-जरूरी आगंतुकों (प्रधान कार्यालय के कर्मचारियों, सलाहकारों आदि सहित) पर पूर्ण प्रतिबंध होगा।

साइट पर फोटोग्राफी/वीडियोग्राफी प्रभारी अभियंता द्वारा पहचाने गए अधिकृत कर्मियों द्वारा की जानी चाहिए।

ठेकेदार अनाधिकृत व्यक्तियों को फोटो/वीडियो लेने से दूर रखने के लिए आवश्यक व्यवस्था करेगा।

पिछले हफ्ते, केंद्रीय लोक निर्माण विभाग, सरकार की निर्माण शाखा, ने फोटोग्राफी या वीडियो रिकॉर्डिंग पर प्रतिबंध लगाने वाले बोर्ड लगाए और सेंट्रल विस्टा के निर्माण स्थल पर जनता के प्रवेश को प्रतिबंधित कर दिया, जिसमें अधिकांश राजपथ खंड शामिल हैं।

सूची में कम से कम 20 जामुन के पेड़ शामिल होंगे। ये करीब 100 साल पुराने हैं। इन्हें 1920 के दशक में लुटियंस दिल्ली की मूल योजना के हिस्से के रूप में लगाया गया था।

आपको बता दें कि सेंट्रल विस्ता परियोजना में 2022 में भारत के 75वें स्वतंत्रता दिवस तक एक नया संसद भवन बनाना शामिल है।

नई दिल्ली के सेंटर फॉर पॉलिसी रिसर्च के एक कानूनी शोधकर्ता कांची कोहली ने कहा: “सेंट्रल विस्टा एक सार्वजनिक स्थान है, फिर भी जनता को इस पुनर्विकास प्रक्रिया से बार-बार बाहर रखा गया है।

इसे सरकार, सरकार द्वारा और सरकार के लिए एक परियोजना की तरह माना गया है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button