सीडीएस रावत के निधन पर शोक की लहर, मोदी, राजनाथ और शाह समेत तमाम नेताओं ने जताया शोक

नई दिल्ली: देश की तीनों सेनाओं के प्रमुख सीडीएस बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत और अन्य सशस्त्र बलों के 11 अन्य जवानों के एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना में निधन पर देश में शोक की लहर है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत तमाम मंत्रियों और राजनेताओं ने जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और सशस्त्र बलों के 11 अन्य जवानों के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए इसे राष्ट्र के लिए अपूरणीय क्षति बताया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर एक शोक संदेश में रावत की सराहना करते हुए कहा कि जनरल बिपिन रावत एक उत्कृष्ट सैनिक थे।

एक सच्चे देशभक्त, उन्होंने हमारे सशस्त्र बलों और सुरक्षा तंत्र के आधुनिकीकरण में बहुत योगदान दिया। सामरिक मामलों पर उनकी अंतर्दृष्टि और दृष्टिकोण असाधारण थे। उनके निधन से मुझे गहरा दुख पहुंचा है।

उन्होंने आगे कहा कि देश के पहले सीडीएस के रूप में जनरल रावत ने रक्षा सुधारों सहित हमारे सशस्त्र बलों से संबंधित विविध पहलुओं पर काम किया। वह अपने साथ सेना में सेवा करने का एक समृद्ध अनुभव लेकर आए। भारत उनकी असाधारण सेवा को कभी नहीं भूलेगा।

मोदी ने जनरल रावत, उनकी पत्नी मधुलिका और सशस्त्र बलों के अन्य कर्मियों के निधन पर गहरा शोक प्रकट करते हुए कहा कि उन्होंने उन्होंने पूरी लगन से भारत की सेवा की।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस घटना पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि जनरल रावत ने असाधारण साहस और लगन से देश की सेवा की। पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ के रूप में उन्होंने हमारे सशस्त्र बलों की संयुक्तता की योजना तैयार की थी।

रक्षामंत्री ने इस दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह के जल्द स्वस्थ होने की कामना की।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने तमिलनाडु में हुई हेलीकॉप्टर दुर्घटना में रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत और सशस्त्र बलों के 11 अन्य जवानों के निधन को अपूरणीय क्षति बताते हुए कहा कि रावत के अनुकरणीय योगदान और प्रतिबद्धता को शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता है।

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भी इस दुर्घटना पर दुख जताते हुए शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना प्रकट की।

इसके साथ ही तमाम केंद्रीय मंत्रियों, मुख्यमंत्रियों, राजनैतिक दलों के नेताओं और सांसदों ने शोक जताया।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button