झारखंड

रांची में मुदस्सिर के मौत मामले में आया नया मोड़, इन पर लगा हत्या का आरोप, दर्ज हुई FIR

कई पुलिसकर्मियों व अन्य लोगों के खिलाफ डेली मार्केट थाने में दी लिखित शिकायत

रांची: राजधानी रांची के मेन रोड में शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद हुए उपद्रव के दौरान हुई फायरिंग (Firing) में मारे गए हिंदपीढ़ी थाना (Hindpidhi Police Stayion) अंतर्गत तिवारी स्ट्रीट राईन मुहल्ला निवासी 15 वर्षीय मो. मुदस्सिर के पिता मो. परवेज ने डेली मार्केट थाना में आवेदन देकर अपनी पुत्र की हत्या की आरोप लगाते हुए कई लोगों के खिलाफ नामजद FIR दर्ज कराया है।

साथ ही इस मामले में उन्होंने दोषी पुलिसकर्मियों एवं अन्य लोगों के खिलाफ उचित कार्रवाई (Action) की मांग की है।

हनुमान मंदिर की छत से चली गोली

FIR में मो. परवेज ने कहा है कि दिनांक 10.06.2022 को दोपहर लगभग 3.30 बजे वह अपने पुत्र के साथ ठेला में फल बेच रहे थे।

इसी क्रम में उर्दू लाइब्रेरी (Urdu Library) की तरफ से मुस्लिम समुदाय के लोग भीड़ की शक्ल में टैक्सी स्टैण्ड, हनुमान मंदिर की तरफ नारेबाजी करते हुए आ रहे थे।

जब भीड़ हनुमान मंदिर के पास पहुंचा तो उनका पुत्र मुद्दसीर (15) ठेले से भीड़ मे शामिल हो गया। अचानक हनुमान मंदिर (Hanuma Mandir) की छत में मौजूद भैरो सिंह, शशी शरद करण, सोनू सिंह एवं अन्य लोग गोली चलाने लगे और पत्थर भी फेंकने लगे। मैंने देखा कि मुस्लिम पक्ष भी पत्थर फेंकने लगा।

इससे अफरा-तफरी मच गई और भगदड़ का माहौल बन गया। इसी क्रम में वहां मौजूद पुलिस के लोग AK 47 और पिस्टल से मुस्लिम पक्ष को टार्गेट (Target) कर अंधाधुंध फायरिंग करने लगे।

यह भी पढ़ें : बोकारो में भी धारा 144 लागू, इन क्षेत्रों में दंडाधिकारियों की हुई प्रतिनिुयक्त

एक तरफ से मंदिर की छत से और दूसरी तरफ रोड में उपस्थित पुलिस क्रमियों के तरफ से लगातार फायरिंग के कारण मची भगदड़ में एक गोली उनके पुत्र मोदस्सिर की सिर में लगी और वह लहु-लुहान होकर सड़क पर गिर पड़ा। उनके पुत्र को रिम्स अस्पताल ले जाया गया जहां अंतत: उसकी मृत्यू हो गयी।

मुस्लिम समुदाय के लोगों पर गोली चलाने के लिए पुलिस को उकसाया

FIR में कहा गया है कि पुलिस की ओर से ताबड़तोड़ गोली चलाने वालों में लोअर बाजार थाना प्रभारी के अंग रक्षक लक्षमण यादव, सदर डी.एस.पी. के अंग रक्षक आशिश कुमार महतो, चुटिया थाना प्रभारी के अंगरक्षक गौरव, कोतवाली थाना प्रभारी शैलेश कुमार और सिटी एस.पी. के अंग रक्षक तथा अन्य पुलिस क्रमी अपने पिस्टल एंव अत्यअधुनिक हथियार AK 47 से मुस्लिम समुदाय को लक्षित कर जान मारने की नीयत से गोली चला रहे थे। साथ ही मंदिर पर चढ़े विभिन्न संगठन एवं अपराधिक प्रवृ्त्ति के लोग मुस्लिम समुदाय के लोगों पर गोली चलाने के लिए पुलिस को उकसा रहे थे तथा वे लोग भी गोली चला रहे थे।

उन्होंने कहा है कि उनके पुत्र मो. मुद्दस्सिर की हत्या FIR में नामजद इन्ही पुलिस पदाधिकारियों व पुलिस कर्मियों तथा मंदिर पर चढ़कर गोली चलाने वाले इन्हीं नामित व्यक्तियों के द्वारा गोली मारकर की गई है।

मो. परवेज का कहना है कि एक गरिब मजदूर हैं तथा उनका पुत्र मुदस्सिर ठेले पर घूम-घूम कर फल एवं सब्जी बेचते थे। उनका एक ही पुत्र था जो उनके पूरे परिवार का भविष्य का सहारा था।

उन्होंने कथित तौर पर अपने पुत्र की हत्या में शामिल वर्णित सभी अपराधियों एवं पुलिस क्रमियों पर आवश्यक कानुनी कारवाई करने की मांंग की है।

उनका पुत्र मुदस्सिर और वे दोनों ठेले पर घूम-घूमकर फल एवं सब्जी बेचते थे। उन्होंने कथित तौर पर अपने पुत्र की हत्या में शामिल FIR में नामजद सभी अपराधियों एवं पुलिस क्रमियों पर आवश्यक कानुनी कारवाई करने की मांंग की है।

New twist in Mudassir's death case in Ranchi, he was accused of murder, FIR registered