झारखंड

तोरपा प्रखंड प्रमुख बने रोहित सुरीन, संतोष कर बने उप प्रमुख

17 पंचायत समिति सदस्यों को शपथ दिलायी

खूंटी: तोरपा प्रखंड कार्यालय में सोमवार को गहमा गहमी के माहौल में प्रमुख और उप प्रमुख का चुनाव (Election) संपन्न हो गया।

एक ओर जहां तोरपा पश्चिमी पंचायत के पंचायत समिति सदस्य रोहित सुरीन (Rohit Surin) ने आसानी से अपने प्रतिद्वंद्वी कमड़ा पंचायत के पंचायत समिति सदस्य जय मंगल गुड़िया को पांच वोटों के अंतर से पराजित कर प्रमुख का ताज अपने नाम कर लिया, वहीं उप प्रमुख का चुनाव काफी दिलचस्प रहा। प्रमुख पद की तीसरी प्रत्याशी पूनम भेंगरा को मात्र तीन वोटों से संतोष करना पड़ा।

उप प्रमुख पद की प्रत्याशी और निर्वतमान उप प्रमुख तोरपा पूर्वी पंचायत समिति सदस्य सोफिया सुल्ताना और डोड़मा के पंचायत समिति सदस्य संतोष कर के बीच कड़ा मुकाबला हुआ।

दोनों को सात-सात वोट मिले और परिणाम टाई हो गया। बाद में लॉटरी (Lottery) के माध्यम से चुनाव कराया गया, जिसमें संतोष कर ने बाजी मार ली।

इसके पूर्व प्रखंड मुख्यालय के सभागार में अनुमंडल पदाधिकारी सह निर्वाची पदाधिकारी सैयद रियाज अहमद ने नव निर्वाचित सभी 17 पंचायत समिति सदस्यों को शपथ दिलायी।

इसके बाद प्रमुख पद के लिए चुनाव हुआ, जिसमें तोरपा पश्चिमी पंचायत के रोहित सुरीन प्रमुख और डोड़मा पंचायत के संतोष कर चुने गये।

SDM ने दोनों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलायी। चुनाव परिणाम की घोषणा होते ही समर्थकों ने नव निर्वाचित प्रमुख और उप प्रमुख को फूल मालाओं से लाद दिया।

बाद में दोनों उम्मीदवारों ने अपने समर्थकों के साथ हिल चौक स्थित भगवान बिरसा मुंडा (Lord Birsa Munda) की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया।

हताश और निराश दिखी निर्वतमान उप प्रमुख

लॉटरी के माध्यम से उप प्रमुख चुनाव का परिणाम घोषित किये जाने और अपनी पराजय से तोरपा की निवर्तमान उप प्रमुख सोफिया सुल्ताना काफी हताश और निराश दिखी।

उन्होंने अपने स्वजनों के साथ पंचायत चुनाव (Panchayat Election) में कड़ी मेहनत की थी और कड़े मुकाबले में पंचायत समिति सदस्य का चुनाव जीत पायी थी।

उप प्रमुख के चुनाव में भी वह अपने जीत को लेकर आश्वस्त थी, लेकिन तीन वोट काटकर पूनम भेंगरा ने सोफिया सुल्ताना का खेल ही बिगाड़ दिया।