झारखंड

Ranchi Violence : रांची के चौक-चौराहों पर लगेगी उपद्रवियों की तस्वीर, राज्यपाल ने दिए निर्देश

राज्यपाल ने DGP, ADG, DC और SSP को किया तलब

रांची: राज्यपाल रमेश बैस (Ramesh Bais) ने सोमवार को राज्य के DGP, ADG (अभियान), रांची DC तथा SSP को राज भवन में तलब किया।

उन्होंने इन अधिकारियों से रांची में 10 जून को हुई हिंसा और उसके बाद घटी घटनाओं की विस्तृत जानकारी ली।

राज्यपाल ने अधिकारियों से पूछा कि प्रस्तावित घटना, धरना-प्रदर्शन और जुलूस के बारे में प्रशासन के पास क्या जानकारी थी और उसके लिए क्या व्यवस्था की गयी थी। आईबी, सीआईडी तथा स्पेशल ब्रांच ने क्या-क्या इनपुट दिया था।

उन्होंने पूछा कि जुलूस के संचालन के दौरान कितने सुरक्षा कर्मी और दंडाधिकारी वहां उपस्थित थे। आप लोगों ने निवारक कार्रवाई क्यों नहीं की।

राज्यपाल ने पूछा कि वहां पर वाटर कैनन, रबड़ बुलेट और आंसू गैस का क्यों इस्तेमाल नहीं किया गया। वहां इन चीजों की व्यवस्था क्यों नहीं थी।

लोगों की पहचान कर उन्हें सजा देने की जरूरत

डीजीपी नीरज सिन्हा ने बताया कि आईबी के इनपुट के अनुसार 150 लोगों के अराजकता पैदा करने की आशंका थी।

राज्यपाल ने पूछा कि पुलिस अधिकारियों और पुलिसकर्मी हेलमेट और सुरक्षात्मक गियर भी नहीं पहने हुए थे।

उन्होंने पूछा कि अभी कितनी गिरफ्तारियां हुई है और कितने केस दर्ज हुए है। सभी प्रदर्शनकारियों और पकड़े गए लोगों का विवरण प्राप्त करें, उनके नाम/पते सार्वजनिक करें, शहर में मुख्य स्थानों पर उनकी तस्वीरें प्रदर्शित करके उनके होर्डिंग बनाएं ताकि जनता भी उन्हें पहचान सके और पुलिस की मदद कर सके।

उन्होंने कहा कि जो लोग इन घटनाओं के बारे में या सोशल मीडिया (Social Media) के माध्यम से अफवाहें फैला रहे हैं, क्या आपने उनकी पहचान की है और उनके खिलाफ कोई कार्रवाई की है।

ऐसे सभी लोगों की पहचान कर उन्हें सजा देने की जरूरत है। इसके अलावा राज्यपाल ने बीते सप्ताह में घटित निम्नलिखित घटनाओं पर भी DGP का ध्यान आकर्षित करते हुए पूछा कि अब तक इन मामलों में क्या कार्रवाई की गयी है।

इन मामलों में गुमला में दुष्कर्म (RAPE) के आरोपित युवक को भीड़ द्वारा जिंदा जलाकर मारने, रांची के जेवर कारोबारी राजेश कुमार पाल की हत्या करने, आदित्यपुर में तीन युवकों की गोली मारकर हत्या करने, जमशेदपुर में गवाही देने पर घर में घुसकर युवक मनप्रीत की गोली मारने की घटना शामिल है। राज्यपाल ने निर्देश दिया कि इन सबकी जानकारी उन्हें अतिशीघ्र उपलब्ध कराई जाये।

राज्यपाल ने पूछा…

1. प्रस्तावित घटना, धरना, प्रदर्शन, जुलूस के बारे में प्रशासन के पास क्या जानकारी थी और आपने क्या क्या व्यवस्थाएं की थी। आपके पास आई.बी., सी.आई.डी. तथा स्पेशल ब्रांच ने क्या क्या इनपुट दिए।
2. जुलूस के संचालन के दौरान कितने सुरक्षा कर्मी और दंडाधिकारी वहाँ उपस्थित थे।
3. आपने कोई preventive action क्यों नहीं लिया।
4. आपने WATER CANON , RUBBER BULLETS और आंसू गैस का इस्तमाल क्यों नहीं किया। There was no provision of these things there. Why?
5. पुलिस महानिदेशक ने बताया as per inputs given by IB 150 people were expected to create chaos.
6. पुलिस अधिकारियों व कर्मियों ने हेलमेट और PROTECTIVE GEAR भी नहीं पहने हुए थे, why?
7. अभी तक कितनी गिरफ्तारियां हुई हैं? How many FIRs lodged?
8. Find out details of all protestors and those who have been caught, make their names/addresses public, make their hoardings by displaying their photographs at main places in the city so that public could also identify them and help police.
9. People who are spreading rumours through or in social media about these incidents, have you identified them and taken any action against them? All such people need to be identified and punished.

राज्यपाल महोदय ने विगत सप्ताह में घटित निम्नलिखित घटनाओं पर भी पुलिस महानिदेशक का ध्यान आकर्षित करते हुए पूछा कि अब तक क्या कार्यवाही की गयी

1. गुमला में दुष्कर्मी के आरोपित युवक को भीड़ द्वारा जिंदा जलाकर मार दिया गया।
2. रांची में राजेश कुमार पाल ज्वेलर की दूकान में हत्या कर दी गयी।
3.आदित्यपुर में 3 युवकों की गोली मारकर हत्या हुई।
4. जमशेदपुर में गवाही देने पर घर में घुसकर युवक मनप्रीत की गोली मारकर हत्या की गयी।
राज्यपाल ने निर्देश दिए कि इन सबकी जानकारी उन्हें अतिशीघ्र उप्लब्ध कराई जाये।