लोहरदगा में नक्सली बंद के दूसरे दिन भी नहीं चले बाक्साइट ट्रक और लंबी दूरी के यात्री वाहन

शहर में आम दिनों की तरह चहल-पहल रही

लोहरदगा: भाकपा माओवादियों के तीन दिवसीय बंद के दूसरे दिन लोहरदगा में आंशिक प्रभाव देखा गया।

बंदी को लेकर जहां पुलिस मुस्तैद नजर आई वहीं बंद के दौरान बाजार सरकारी गैर सरकारी कार्यालय खुले रहे। बाजार खुले रहे। शहर में आम दिनों की तरह चहल-पहल रही। बाक्साइट ट्रक और लंबी दूरी के यात्री वाहन नहीं चले।

तीन दिवसीय बंद के कारण लंबी दूरी के वाहनों का परिचालन नहीं हुआ। बंद को लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। संवेदनशील स्थानों में पुलिस बलों की तैनाती की गई है।

यात्री ट्रेन सामान्य रूप से चली लेकिन अन्य दिनों की तरह इसमें यात्रियों की भारी भीड़ नहीं देखी गई। वहीं लंबी दूरी के वाहनों का परिचालन नहीं होने से शादी विवाह के लग्न के इस मौके पर लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

उग्रवादी बंदी को लेकर शादी विवाह के समारोह में भी व्यवधान उत्पन्न हो रहा है। लोहरदगा जिला के शहरी इलाकों के अलावे सेन्हा प्रखंड, कुडूर प्रखंड, भंडरा प्रखंड, कैरो प्रखंड, किस्को प्रखंड, पेशरार प्रखंड में भी बंदी का कोई खासा प्रभाव नहीं नजर आया।

बाजार दुकान आम दिनों की तरह खुले रहे। बैंक डाकघर सरकारी कार्यालय में सामान्य रूप से कामकाज होता रहा। बंदी को लेकर बॉक्साइट खनन एवं परिवहन ठप रहने से भारी नुकसान हो रहा है।

वहीं यात्री वाहनों एवं व्यवसायिक वाहनों के नहीं चलने से भी करोड़ो रुपये का नुकसान हो रहा है। बंदी को लेकर लोग सतर्कता बरत रहे है। निजी वाहनों से भी लोग दूर जाने में हिचकिचा रहे है। बंदी से लोगों की परेशानी बढ़ गई है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button