तेलंगाना भाजपा प्रमुख की सर्जिकल स्ट्राइक वाले बयान पर मचा बवाल

हैदराबाद: भाजपा की तेलंगाना राज्य इकाई के अध्यक्ष बंदी संजय कुमार ने मंगलवार को बयान दिया कि ग्रेटर हैदराबाद के स्थानीय निकाय चुनावों में भाजपा की जीत के बाद पुराने शहर पर सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया जाएगा।

ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (जीएचएमसी) चुनावों के लिए प्रचार करते हुए, भाजपा नेता ने कहा कि भाजपा के चुनाव जीतने और उसके नेता के मेयर बनने के बाद, पाकिस्तान समर्थक तत्वों और रोहिंग्याओं को भगाने के लिए पुराने शहर पर सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया जाएगा।

करीमनगर के सांसद ने हब्सीगुडा में एक रोड शो के दौरान कहा, एक भाजपा नेता के मेयर बनने के बाद, हम पाकिस्तान समर्थकों और रोहिंग्याओं का पीछा करने के लिए पुराने शहर पर सर्जिकल स्ट्राइक करेंगे।

उन्होंने आरोप लगाया कि तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) और ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) रोहिंग्या, पाकिस्तानी और अफगान मतदाताओं के साथ जीएचएमसी चुनाव जीतने की कोशिश कर रहे हैं।

कुमार के बयान पर आपत्ति जताते हुए तेलंगाना के कैबिनेट मंत्री और टीआरएस के कार्यकारी अध्यक्ष केटी रामा राव ने ट्वीट किया, हैदराबाद पर सर्जिकल स्ट्राइक? क्या यह व्यक्ति कुछ वोटों और सीटों के लिए पूरी तरह पागल हो गया है?

उन्होंने केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी. किशन रेड्डी से पूछा कि क्या वह अपने सहयोगी सांसद के निंदनीय और घृणित बयानों की निंदा करते हैं?

रोहिंग्याओं का मुद्दा सबसे पहले भाजपा के युवा अध्यक्ष तेजस्वी सूर्य ने सोमवार को उठाया था।

पार्टी के लिए चुनाव प्रचार करते हुए उन्होंने कहा कि असदुद्दीन ओवैसी और उनके भाई अकबरुद्दीन ओवैसी ने रोहिंग्याओं को हैदराबाद में रहने दिया।

उन्होंने यह भी कहा कि एआईएमआईएम के लिए हर एक वोट भारत के खिलाफ होगा।

बेंगलुरु के भाजपा सांसद ने असदुद्दीन ओवैसी की तुलना पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना से भी की।

उन्होंने रबीद इस्लामवाद, अलगाववाद और उग्रवाद की भाषा बोली जो मोहम्मद अली जिन्ना ने की थी।

भाजपा नेताओं पर निशाना साधते हुए असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि वे निराश हैं, इसलिए ऐसी बात कर रहे हैं।

भाजपा नेता कह रहे हैं कि मतदाता सूची में 30,000-40,000 रोहिंग्या हैं। वे कुछ भी कह रहे हैं। उन्होंने पूछा,

यहां अगर 30,000 रोहिंग्या हैं, तो (केंद्रीय गृहमंत्री) अमित शाह क्या कर रहे हैं? क्या वह सो रहे हैं?

आईएमआईए प्रमुख ने कहा कि मतदाता सूची उनकी पार्टी द्वारा तैयार नहीं की गई है। उन्होंने भाजपा नेताओं को चुनौती दी कि वे सूची में कम से कम 1,000 रोहिंग्याओं को दिखाएं।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button