झारखंड : कोरोना में बिगड़ी स्वास्थ्य विभाग की व्यवस्था, सिविल सर्जन ने लिखा पत्र

दिख रही स्वास्थ्य विभाग की लचर व्यवस्था

जमशेदपुर :कोरोना संक्रमण के कारण जिले में स्वास्थ्य योजना से जुड़े कार्य प्रभावित होने की आशंका है।

जैसे-जैसे जिले में संक्रमण बढ़ रहा है, वैसे-वैसे स्वास्थ्य विभाग की व्यवस्था लचर होती दिख रही है। इन दिनों विभाग कर्मचारियों की कमी से जूझ रहा है।

इससे सिविल सर्जन डॉ. एके लाल ने चिकित्सा प्रभारियों एवं कार्यक्रम पदाधिकारियों को पत्र भेजा है। इसमें कार्यालय कार्य को कर्मचारियों की क्षमता के साथ करने का आदेश दिया है।

सिविल सर्जन ने जिला व प्रखंड के स्वास्थ्य कार्यालयों में शत-प्रतिशत उपस्थिति पर जोर दिया है, ताकि कोई कार्य प्रभावित नहीं हो।

सिविल सर्जन ने कार्यालय में संक्रमण से सुरक्षा का उपाय करने का सुझाव दिया है। दरअसल, एक जनवरी से जिला में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ी है।

इस दौरान डॉक्टरों के साथ जिला सिविल सर्जन कार्यालय, सदर अस्पताल, जुगसलाई सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र समेत अन्य कार्यालय के दर्जनों कर्मचारी पॉजिटिव हो गए।

लिहाजा, कार्यालय के साथ स्वास्थ्य केंद्र भी बंद हुए थे। कोरोना के संक्रमण की आशंका से दिव्यांग जांच शिविर रद्द हुआ है, जबकि कर्मचारियों के परिवार में अन्य सदस्य के बीमार होने से भी कार्यालयों में उपस्थिति कम हो रही है। इससे कार्य प्रभावित होना लाजमी है।

इधर, सिविल सर्जन द्वारा शत-प्रतिशत उपस्थिति का आदेश जारी करने पर भी ऐसे कर्मचारी कार्यालय नहीं पहुंच पाएंगे जो पॉजिटिव होकर अस्पतालों या होम आइसोलेशन में है। अब जिले में 23 से 25 जनवरी के बीच बच्चों का पल्स पोलियो अभियान चलना है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button